13 June 2024
सुग्रीव की गुफा के नाम से प्रतिष्ठित सरगुजा जिले में स्थित बन्दरकोट गुफा को धार्मिक रूप से विकसित एवं संरक्षित किए जाने की मांग
आस्था प्रशासन मांग राज्य

सुग्रीव की गुफा के नाम से प्रतिष्ठित सरगुजा जिले में स्थित बन्दरकोट गुफा को धार्मिक रूप से विकसित एवं संरक्षित किए जाने की मांग

अम्बिकापुर।सरगुजा जिले में स्थित बन्दरकोट गुफा को धार्मिक रूप से विकसित एवं संरक्षित किए जाने की मांग कर राज्यपाल के नाम कलेक्टर को ज्ञापन सौपा गया है, इसके साथ ही मूलभूत सुविधाओं को दूर करने की मांग की गई है,दरअसल सरगुजा जिले के ग्राम पंचायत बड़ा दमली में स्थित बन्दरकोट गुफा को स्थानीय लोगो के द्वारा संरक्षित एवं विकसित करने की मांग कर राज्यपाल के नाम कलेक्टर को ज्ञापन सौपा है। ज्ञापन सौपने में आए जमगवां एवं नवापारा खुर्द के ग्रामीणों ने बताया की ग्राम में स्थित बन्दरकोट गुफा स्थानीय मान्यताओं और जनश्रुतियों में सुग्रीव की गुफा के नाम से प्रतिष्ठित है,यह गुफा छत्तीसगढ़ राम वन गमन पथ के तट पर स्थित है जिसे जन मान्यता को बल मिलता है, बाल्मीकि रामायण और तुलसीदास के रामचरितमानस में वर्णित पंपापुर ग्राम व पंपापुर सरोवर का उल्लेख भी है,जो इस गुफा से कुछ हो दूरी पर स्थित है,इसके साथ ही गुफा से कुछ दूरी पर स्थित मैनपाट सरभंजा ग्राम भी है जिसका रामचरितमानस रामायण में उल्लेखित सारभंग ऋषि की तपोस्थली है, इसके साथ ही गुफा से थोड़ी दूर ही मतरिंगा की पहाड़ी है जो रेड नदी का उद्गम स्थल है, इस नदी को सरगुजा वास भगवान राम के समय कालीन और भगवान परशुराम के माता के रूप में अपने श्रद्धा व्यक्त करते हैं, जिसे विकसित व संरक्षित करने की मांग कर दर्जनों स्थानीय ग्रामीणों ने राज्यपाल के नाम कलेक्टर को ज्ञापन सौपा है। इस दौरान स्थानीय निवासी मनोज सिंह, राजेश्वर, सहित अन्य मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *