13 June 2024
विश्व तम्बाकु निषेध दिवस 31 को…. होगा विभिन्न कार्यक्रम का आयोजन…मुख व गले की कैंसर की निःशुल्क जाँच नावापारा प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र मे होगी…बच्चो को तम्बाकू की आदत से बचाना मुख्य उ‌द्देश्य…
आयोजन जागरूकता राज्य स्वास्थ

विश्व तम्बाकु निषेध दिवस 31 को…. होगा विभिन्न कार्यक्रम का आयोजन…मुख व गले की कैंसर की निःशुल्क जाँच नावापारा प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र मे होगी…बच्चो को तम्बाकू की आदत से बचाना मुख्य उ‌द्देश्य…

अम्बिकापुर।विश्व तम्बाकु निषेध दिवस 31 मई आमजन को तम्बाकु के दुष्प्रभाव के प्रति जनजागरूकता पैदा करने के उद्देश्य से प्रतिवर्ष विशेष दिवस के रूप में मनाया जाता है।

इस वर्ष तम्बाकु निषेध दिवस पर नाबालिक बच्चो को तम्बाकु की लत में लाने के लिये तम्बाकु विक्रय कम्पनी के द्वारा चलाये जा रहे अभियान के प्रति जानकारी देना व बच्चो को तम्बाकू की आदत से बचाना मुख्य उ‌द्देश्य है।
तम्बाकु सेवन करने वाले व्यक्ति (80 प्रतिशत) की लत 21 वर्ष के उम्र तक लग जाती है। 21 वर्ष तक की उम्र में सोचने, परखने, व सही निर्णय लेने के लिये अपरिपक्व रहता है। इस उम्र के बच्चे आसानी से प्रचार-प्रसार से प्रभावित होते है। और नशे के शिकार बनते है।

कोटपा एक्ट 2003 के द्वारा तम्बाकु एक प्रतिवधात्मक पदार्थ है जिसे 18 वर्ष से कम उम्र को बेचा या खरीदा नही जा सकता, जबकि शिक्षण संस्थान के 100 गज के दायरे में तम्बाकु की विक्रय पर पूर्ण प्रतिबन्ध है। जुवेनाइल प्रिवेन्सन एक्ट के तहत उल्लंघन होने पर 05 वर्ष की कारावास का प्रावधान है।

राष्ट्रीय तम्बाकु नियंत्रण कार्यक्रम के तहत् वर्ष 2023-24 में राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रमा के सहयोग से सभी शिक्षण संस्थानों में तम्बाकु से होने वाली दुष्परिणाम की जानकारी दी गयी है। तम्बाकु नशा मुक्ति केन्द्र में तम्बाकु सेवन करने वाले की संख्या 1029 की थी, जिसमे से 600 लोगो से तम्बाकु खाना छोडा वही धुम्रपान करने वालो की संख्या 118 थी, जिसमे से 38 लोगों ने निकोटिन पैच व चिन्गम की सहायता से छोड़ा। सरगुजा में 100 में से 39 लोग तम्बाकु का प्रयोग खाने अथवा धुम्रपान के रूप में करते है. 100 की जनसंख्या में 05 लोग धुम्रपान सेवन करते है
मुख एवं गले के कैंसर में 90 प्रतिशत कारण तम्बाकु सेवन होता है। तम्बाकु मानव शरीर स्वास्थ्य के लिये पैसा बीज है, जो कैंसर, हृदय घात, लकवा जैसी बिमारी पैदा कर पीड़ादायक मौत का कारण बनता है। पैर के नाखून से लेकर सिर के बाल तक तम्बाकु के द्वारा स्वस्थ शरीर में बिमारी पैदा होती है।
राष्ट्रीय तम्बाकु नियंत्रण कार्यक्रम के प्रभारी अधिकारी
डॉ. शैलेन्द्र गुप्ता ने बताया कि तम्बाकु निषेध दिवस पर विविध कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। जिसमे मुख व गले की कैंसर की निःशुल्क जाँच कैंसर रोग विशेषज्ञ डॉ. हिमान्शु द्वारा नावापारा प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र मे प्रातः 09:00 बजे से 02:00 बजे तक किया जायेगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *