26 May 2024
वन विभाग रेस्ट हाउस के पीछे महुआ शराब का जखीरा मिलने का मामला……संदिग्ध विभाग के दरोगा पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं
आरोप जांच राज्य

वन विभाग रेस्ट हाउस के पीछे महुआ शराब का जखीरा मिलने का मामला……संदिग्ध विभाग के दरोगा पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं

अम्बिकापुर।शहर से लगे ग्राम सकालो में पिछले दिनों ग्रामीण व पुलिस ने वन विभाग के रेस्ट हाउस के पीछे महुआ शराब का अवैध कारखाना खोज निकाला था. मामले में पुलिस ने कुछ लोगों पर कार्रवाई जरूर की परंतु जिनके नाक के नीचे बड़े पैमाने पर शराब बनाई जा रही थी उस अफसर पर अब तक कोई कार्रवाई विभाग के द्वारा नहीं की जा सकती है. बताया जा रहा है कि पूरे मामले में विभाग के एक दरोगा की भूमिका संदिग्ध बताई गई थी। विभाग के वरिष्ठ अधिकारी ने भी उक्त दरोगा पर विभागीय कार्रवाई किए जाने की बात कही थी, परंतु आज तक ना तो उक्त दरोगा का स्थानांतरण ही हो सका है और ना ही विभाग के द्वारा कोई और कार्रवाई की जा सकी है।

गौरतलब है कि शहर से लगे ग्राम सकालो में पिछले कुछ दिनों से ग्रामीणों के घरो में लगातार चोरी की इतना घटीत हो रही है जिससे परेशान ग्रामीणों ने जब पतासाजी की तो उन्हें रेस्ट हाउस के कमल नामक कर्मचारी का चोरी की इन घटनाओं में हाथ होने की जानकारी मिली थीं ,जिसके बाद  दर्जनभर ग्रामीण सरपंच के नेतृत्व में गांव में बने वन विभाग के रेस्ट हाउस पहुंचे। रेस्ट हाउस के ठीक बगल में बने एक छोटे से झोपड़ी में कुछ संदिग्ध कार्य होने के आशंका पर जब वे झोपड़ी में घुसे तो अंदर जाते ही उनकी आंखें फटी रह गयी थीं । झोपड़ी के कमरे में लगभग दर्जन भर बडे ड्रम तथा टंकियों में कच्चा महुआ शराब मिला था,जिसे बनाने की प्रक्रिया में लगे हुए थे।इसके अलावा विधिवत शराब बनाने का पूरा सेटअप भी मिला था । वहीं कमरे में ही टुल्लू पंप, ब्लोअर व लगभग 1 दर्जन विभिन्न आकार के पानी टंर्व का एक पल्सर मोटरसायकल सहित अन्य सामान मिला था । इस पूरे मामले में गांधीनगर पुलिस नेकुछ लोगों को गिरफ्तार किया था.बड़ी बात यह थी कि विभाग के दरोगा की भूमिका संदिग्ध होने पर वन विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों ने विभागीय कार्रवाई किए जाने की बात कही थी, परंतु आज तक उक्त अफसर पर कोई भी कार्रवाई नहीं की जा सकी है।

नोटिस जारी किया गया है,जवाब मिलते ही की जाएगी कार्रवाई-डीएफओ

उक्त मामले में अब तक विभाग द्वारा कोई कार्रवाई नहीं किए जाने को लेकर सरगुजा वन मंडल के डीएफओ तेजस शेखर से बातचीत की गई तो उन्होंने बताया कि संबंधित लोगों के विरुद्ध व वन विभाग के कुछ कर्मचारीयो को नोटिस जारी किया गया है,डायरेक्ट इंवॉल्वमेंट का कोई सबूत नहीं मिला है फिर भी संबंधित लोगों के ऊपर नोटिस जारी कर जवाब मांगा गया है, जवाब आने के बाद जांच उपरांत कार्रवाई की जाएगी। वहीं डीएफओ ने बताया कि कई अन्य लोगों को भी नोटिस जारी किया गया है जो अवैध रूप से अतिक्रमण किए थे,वन विभाग अतिक्रमणकारियों को हटाने लगातार सक्रिय है और कई लोगों को हटाया भी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *