28 May 2024
मधुमक्खी पालन पर दो दिवसीय प्रशिक्षण आयोजित
आयोजन बैठक राज्य

मधुमक्खी पालन पर दो दिवसीय प्रशिक्षण आयोजित

अंबिकापुर ।सरगुजा जिले में मधुमक्खी पालन की अपार संभावनाएं को देखते हुए आर्या परियोजना अंतर्गत कृषि विज्ञान केन्द्र, सरगुजा में वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं प्रमुख, डॉ. राजेश चौकसे के मार्गदर्शन में एवं डॉ. अजय वर्मा, निदेशक विस्तार सेवाएं, इं.गां.कृ.वि.वि. रायपुर के मुख्य आथित्य में दो दिवसीय मधुमक्खी पालन विषय पर प्रशिक्षण का शुभारम्भ किया गया । कार्यक्रम में सबसे पहले वरिष्ठ वैज्ञानिक द्वारा स्वागत उदबोधन में प्रशिक्षण के उद्देश्य के बारे में बताया गया साथ ही केन्द्र द्वारा कृषक हितैसी योजनाओं के क्रियान्वयन के बारे में बताया । उदबोधन के अगले क्रम में राजमोहिनी देवी कृषि महाविद्यालय एवं अनुसन्धान केन्द्र, अंबिकापुर के अधिष्ठाता डॉ. एस. के. सिन्हा के द्वारा कृषकों को ज्यादा से ज्यादा मधुमक्खी पालन कार्य से जुड़ने का आह्वाहन किया, उन्होंने बताया कि महाविद्यालय के वैज्ञानिकों द्वारा सतत मधुमक्खी पालन पर अनुसन्धान कार्य किया जा रहा है, जो कृषकों के लिए काफी लाभदायक है। कृषि महाविद्यालय, शंकरगढ़ के अधिष्ठाता, डॉ. जी.पी. पैकरा द्वारा मधुमक्खी पालन में सावधानी बरतने वाली बिन्दुओं पर सबका ध्यान आकृष्ण किया। कृषि महाविद्यालय, प्रतापपुर के अधिष्ठाता डॉ. पी. एस. राठिया द्वारा कीटनाशक का प्रयोग कम से कम करने की सलाह दी। डॉ. के.एल. पैकरा, वरिष्ठ वैज्ञनिक द्वारा मधुमक्खियों के इतिहास, प्रजातियाँ उनका सरल पहचान के बारे में बताया, डॉ. सचिन जयसवाल, वैज्ञानिक द्वारा मधुमक्खी पालन के मुख्य कीट, रोगों की पहचान एवं प्रबंधन के बारे में विस्तृत जानकारी दी गई। आभार प्रदर्शन वैज्ञानिक श्री पान्डु राम पैकरा, द्वारा किया गया, कार्यक्रम का संचालन, प्रशिक्षण प्रभारी श्री सूर्य प्रकाश गुप्ता द्वारा किया गया, उक्त अवसर पर कृषि विज्ञान केन्द्र, मैनपाट प्रभारी डॉ. संदीप शर्मा, कृषि विज्ञान केन्द्र, कोरिया प्रभारी ई. कमलेश सिंह, साथ ही वैज्ञानिक अरविन्द कुमार साय, डॉ. रितु रानी मिंज, श्री वीरेंद्र कुमार, श्री बिरेन्द्र तिग्गा एवं ओडगी विकास खंड से 10 कृषक एवं ग्राम पिपरखार विकास खंड से 40 कृषक उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *