28 May 2024
प्रतापपुर का अब हर पंचायत टीबी मुक्त होगा.. प्रक्रिया शुरू हुई…उच्च अधिकारी हर माह करेंगे समीक्षा…छत्तीसगढ़ प्रांत में सबसे पहले इसकी शुरुआत प्रतापपुर से हुई हैं
राज्य स्वास्थ

प्रतापपुर का अब हर पंचायत टीबी मुक्त होगा.. प्रक्रिया शुरू हुई…उच्च अधिकारी हर माह करेंगे समीक्षा…छत्तीसगढ़ प्रांत में सबसे पहले इसकी शुरुआत प्रतापपुर से हुई हैं

अम्बिकापुर।प्रतापपुर का अब हर पंचायत टीबी मुक्त होगा.. इसके लिए प्रक्रिया शुरू हो गई है। उच्च अधिकारियों के द्वारा हर माह इसकी समीक्षा की जाएगी

छत्तीसगढ़ प्रांत में सबसे पहले इसकी शुरुआत प्रतापपुर से हुई हैं। प्रतापपुर आकांक्षी ब्लांक है । सम्पूर्ण भारतवर्ष में 500 ब्लाकों को आकांक्षी ब्लांक बनाया गया है । जिसमें एक प्रतापपुर भी है। पिरामल फाऊंडेशन छत्तीसगढ़ ने भी गहनता से कार्य कर रहा है । जूलाई माह में 26 स्कूलों में जागरूकता कार्यक्रम किया ।
11 सितम्बर को अनुविभागीय अधिकारी की अध्यक्षता में विकासखण्ड़ रामानुजनगर और उड़ाई में टीबी फोरम की बैठक होगी।

कलेक्टर संजय अग्रवाल के दिशानिर्देशा अनुसार दिनांक 08 सितंबर 2023 को विकासखण्ड़ स्तरीय टीबी फोरम की बैठक में अनुविभागीय अधिकारी दीपिका नेताम की अध्यक्षता में तथा मुख्य कार्यपालन अधिकारी पारसनाथ पैकरा, जिला क्षय उन्मूलन अधिकारी डॉ विद्या भूषण टोप्पो, खण्ड़ चिकित्सा अधिकारी डॉ विजय सिंह के उपस्थित में जनपद सभागार में सम्पन हुआ । जिसमें महिला एवं बाल विकास विभाग, शिक्षा विभाग, नगरपंचायत, मितानिन कार्यक्रम, स्वच्छ भारत मिशन, आजीविका मिशन आदि विभागों के प्रतिनिधि सहभागी रहे । एसडीएम दीपिका नेताम ने कहा कि सभी विभागों से समन्वय स्थापित कर अच्छें से कार्य करेंगे उसमें तो हमलोग पुरे विकासखण्ड को टीबी फ्री कर सकते हैं । ऐसा ही कार्ययोजना पंचायत स्तर तक बने और गहनता से कार्य हो निश्चित तौर पर सफलता मिलेगी । मुख्य कार्यपालन अधिकारी पारस पैकरा ने कहा कि टीबी मुक्त पंचायत के लिए जब जब ग्रामसभा हो तब तब इस संदर्भ में समीक्षा और चर्चा हो । सम्भावित क्षय रोगियों का चिन्हांकन और उसका जांच हो, स्वास्थ्य विभाग तो सेवाएं दे रहा है पर जागरूकता के लिए विभिन्न विभागों की बैठकों में भी चर्चा किया जाये । जिला क्षय उन्मूलन अधिकारी डॉ विद्या भूषण टोप्पो ने कहा की दिसम्बर में टीबी फ्री पंचायत के लिए दावा पेश करना है तथा 24 मार्च को चयनित और सत्यापित पंचायतों को कलेक्टर महोदय के कर कमलों द्वारा उक्त पंचायत को पुरस्कृत और सम्मानित किया जायेगा । सूरजपुर जिला को टीबी मुक्त जिला बनाने में पिरामल फाऊंडेशन छत्तीसगढ़ विशेष सहयोग प्रदान कर रहा है विगत माह 26 स्कूलों में जागरूकता कार्यक्रम किया । खण्ड़ चिकित्सा अधिकारी डॉ विजय सिंह ने कहा कि ब्लांक से पंचायत स्तर पर पहुंचाने के लिए ग्रामपंचायत के सचिवों की अहम भूमिका है । आज के बैठक का संदेश अब सभी पंचायतों तक पहुंचेगा । जिससे स्वास्थ्य विभाग को जमीनी स्तर पर समन्वय स्थापित करने में आसानी होगी । बीपीएम सतीश श्रीवास्तव ने बताया कि प्रारंभिक तौर पर 22 पंचायतें टीबी फ्री का योग्यता रखती है उन पंचायतों में सर्वाधिक जांच भी किया गया है और टीबी के केश भी नहीं निकले इस लिए उन पंचायतों के लिए टीबी फ्री का दावा किया जा सकता है यह आंकड़ा बढ़ भी सकता है । जिला क्षय नियंत्रण केन्द्र के संजीत कुमार सिंह डीटीसी ने बताया कि जिस प्रकार जिला और ब्लांक में टीबी फोरम बना है और समीक्षा हो रही है ठीक उसी प्रकार पंचायत स्तर पर भी पंचायत टीबी फोरम बनेगा । कार्यक्रम का संचालन पिरामल संस्था के जिला कार्यक्रम समन्वयक राज नारायण द्विवेदी ने कहा की पंचायत स्तर पर जन आरोग्य समिति है, उस समिति की बैठक माह में एक बार होती उस समिति के अध्यक्ष पंचायत के सरपंच होते हैं उक्त समिति के माध्यम से टीबी मुक्त पंचायत की समीक्षा होने से बेहतर परिणाम आयेगा । इस विषय पर संजीत सिंह ने कहा कि पंचायत स्तर पर भी टीबी फोरम का गठन और प्रतिमाह समीक्षा करना है । आभार प्रदर्शन करते हुए एसटीएस राम विलास सिंह ने कहा की इस टीबी फोरम से क्षय उन्मूलन कार्यक्रम को गति मिलेगी । कार्यक्रम में धर्म पाल सिंह, सूरजमणई बघेल परियोजना अधिकारी, शिवशंकर प्रसाद यादव, राधेलाल पैकरा पंचायत इंस्पेक्टर पार्वती केवट आदि सहभागी रहे ।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *