26 May 2024
ना विज्ञापन ना साक्षात्कार…. गुपचुप तरीके से जूनियर रेजिडेंट क़ो सीनियर रेजिडेंट बना दिया,पद ही नहीं है स्वीकृत….राजमाता देवेंद्र कुमारी सिंहदेव मेडिकल कालेज के डेंटल विभाग में जुनियर रेजिडेंट की भर्ती में गड़बड़ी का आरोप
आरोप शिकायत स्वास्थ

ना विज्ञापन ना साक्षात्कार…. गुपचुप तरीके से जूनियर रेजिडेंट क़ो सीनियर रेजिडेंट बना दिया,पद ही नहीं है स्वीकृत….राजमाता देवेंद्र कुमारी सिंहदेव मेडिकल कालेज के डेंटल विभाग में जुनियर रेजिडेंट की भर्ती में गड़बड़ी का आरोप

अंबिकापुर। राजमाता देवेंद्र कुमारी सिंहदेव मेडिकल कालेज के डेंटल विभाग में जुनियर रेजिडेंट की भर्ती में गड़बड़ी का आरोप लगा है और इसकी शिकायत मुख्यमंत्री और राज्यपाल के साथ राष्ट्रपति से की गई है। बिलासपुर मुंगेली निवासी राजू पाटले ने अपने शिकायत में बताया है कि एक साल पहले डेंटल डिपार्टमेंट में जूनियर रेजिडेंट के एक पद पर भर्ती के लिए आफ लाइन और आनलाइन किसी भी मोड़ में विज्ञापन जारी नहीं किया गया और कालेज प्रबंधन ने गुपचुप तरीके भर्ती कर ली, इसके बाद इसकी शिकायत की गई लेकिन जांच नहीं कराई गई। इसकी भर्ती एक साल के लिए की गयी थी लेकिन अब जूनियर रेजिडेंट क़ो सीनियर रेजिडेंट बना दिया गया है। जबकि सीनियर रेजीडेंट का पद ही स्वीकृत नहीं है, अफसरों का कहना है कि पद नहीं होने पर सीनियर रेजिडेंट के पद पर नियुक्ति न कर नामित किया है क्योंकि सीनियर रेजिडेंट का पद नहीं होने पर भी अहर्ताएं पूरी करनी थी। मेडिकल कालेज में चल रही दूसरी भर्तियों पर भी सवाल उठ रहा है।

डिपार्टमेंट की ओर से भी इस मामले में कोई जवाब सामने नहीं आ रहा है। लेकिन उनका कहना है कि भर्ती के दौरान एक मात्र उम्मीदवार आया और उनसे प्रबंधन ने बिना साक्षात्कार के आयोजन किए हस्ताक्षर करा लिया।

साक्षात्कार हुआ है तो दिखाएं लिस्ट, कितने लोग हुए शामिल

अधिष्ठाता के अनुसार साक्षात्कार किया गया था। उनकी भर्ती एनएमसी के मापदंड और उनके कार्य अनुभव के आधार पर किया गया। सवाल यह है कि अगर साक्षात्कार हुआ है तो उसकी लिस्ट भी होगी। आखिर जब आरोप लग रहे हैं तो विभाग उसे लिस्ट को सार्वजनिक क्यों नहीं कर रहा है। लिस्ट सामने आ जाने के बाद यह स्पष्ट हो जाता की सीनियर रेजिडेंट की नियुक्ति में कितने लोगों ने हिस्सा लिया था।

भर्ती के लिए विज्ञापन सर्जरी और एलाइड के तहत निकला था- डीन

कालेज के डीन रमनेश मूर्ति का कहना है कि जो शिकायत कर रहें हैं वे मुझसे आकर मिले, शिकायत करने वाले समझ नहीं पा रहें हैं। कोई गलती नहीं हुई है, भर्ती के लिए विज्ञापन सर्जरी और एलाइड के तहत निकला था। साक्षात्कार भी हुआ है। उनकी भर्ती एनएमसी के मापदंड और उनके कार्य अनुभव के आधार पर किया गया है। वहीं सीनियर रेजीडेंट का पद स्वीकृत होने पर उस पद पर नामित किया है, उसे सरकार से सीनियर रेजिडेंट का वेतन नहीं मिल रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *