21 July 2024
क्रेडिट कार्ड के अंतर्राष्ट्रीय सेवाओं को बंद करने के नाम पर झांसा देकर 2 लाख से अधिक की ठगी, आरोपी गिरिडीह झारखण्ड से गिरफ्तार
कार्रवाई क्राइम राज्य

क्रेडिट कार्ड के अंतर्राष्ट्रीय सेवाओं को बंद करने के नाम पर झांसा देकर 2 लाख से अधिक की ठगी, आरोपी गिरिडीह झारखण्ड से गिरफ्तार

अम्बिकापुर।क्रेडिट कार्ड के अंतर्राष्ट्रीय सेवाओं को बंद करने के नाम पर झांसे मे लेकर ठगी करने वाले अंतर्राज्यीय आरोपी को गिरिडीह झारखण्ड से पकड़ने में सफलता मिली है।

पुलिस अधीक्षक सरगुजा के निर्देशन में संयुक्त पुलिस टीम ने मामले मे 1 आरोपी को गया गिरफ्तार किया है।
आरोपी के कब्जे से घटना मे प्रयुक्त 5 नग मोबाइल, 3 नग एटीएम कार्ड, आरोपी का 2 अलग अलग आधार कार्ड, 1 नग पैन कार्ड, ठगी मे प्रयोग किये गए दस्तावेज, 2000/- रुपये नगद एवं एयरलाइन का टिकट बरामद
किया गया।
चौकी रघुनाथपुर थाना लुंड्रा निवासी पियुष कुजूर पिता स्व. पितरूस सुखराम उम्र 46 वर्ष द्वारा चौकी रघुनाथपुर आकर रिपोर्ट दर्ज कराया गया कि घटना दिनांक 19 सितंबर को प्रार्थी को एक अज्ञात व्यक्ति द्वारा फोन कर क्रेडिट कार्ड के अंतर्राष्ट्रीय सेवाओं सेवाओ को निरस्त कराने की बात बोलकर झांसे में लेकर मोबाइल एप्लीकेशन डाउनलोड करवाकर ओटीपी भेजकर प्रार्थी से अलग अलग ट्रांजेक्शन मे कुल 2,44,496 -रुपये की ठगी कर ली गई हैं. प्रार्थी के रिपोर्ट पर थाना लुंड्रा मे धारा 420, 34, 66(डी) आई. टी. एक्ट का अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना मे लिया गया। मामले को संज्ञान मे लेकर पुलिस अधीक्षक सरगुजा सुनील शर्मा के निर्देशन में साइबर ठगी के मामलो में त्वरित कार्यवाही कर आरोपी को शीघ्र गिरफ्तार करने के लिए दिशा निर्देश दिए गए थे। इसी क्रम में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक पुपलेश कुमार, अनुविभागीय अधिकारी पुलिस सीतापुर राजेंद्र मंडावी, अनुविभागिय अधिकारी पुलिस ग्रामीण अखिलेश कौशिक के नेतृत्व मे संयुक्त टीम का गठन कर आरोपियों का पता तलाश किया जा रहा था।
विवेचना दौरान आरोपी के संबंध में साइबर सेल से तकनीकी जानकारी प्राप्त कर संयुक्त टीम को आरोपी की धरपकड़ हेतु गिरिडीह झारखण्ड रवाना किया गया था। संयुक्त पुलिस टीम द्वारा मामले मे शामिल आरोपी की रांची एयरपोर्ट से घेराबंदी कर पकड़कर पूछताछ किया गया। आरोपी द्वारा अपना नाम मुकेश मण्डल आत्मज रघुनाथ मण्डल उम्र 31 वर्ष निवासी नगर केशवारी थाना सरिया जिला गिरिडीह झारखण्ड का होना बताया। आरोपी से घटना के सम्बन्ध में पूछताछ करने पर कमिशन के लालच मे आकर अपना खाता खुलवाकर मामले मे शामिल अन्य आरोपियों को प्रदान कर ठगी की घटना कारित करना स्वीकार किया गया।आरोपी के विरुद्ध अपराध सबूत पाए जाने से गिरफ्तार कर न्यायिक अभिरक्षा मे भेजा जाता हैं। संपूर्ण कार्यवाही में निरीक्षक अश्वनी सिंह, सहायक उपनिरीक्षक दिलीप दुबे, प्रधान आरक्षक सुधीर सिंह, आरक्षक राकेश एक्का, अरविन्द तिवारी, सुयश सिंह शामिल रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *