28 May 2024
उड़ीसा की तर्ज पर बने श्री सिद्धिविनायक मंदिर में विराजेगे लंबोदर..भव्य कलश यात्रा में शामिल हुई सैकड़ो महिलाए…. पुलिस ने किया कलश यात्रियों का स्वागत, प्राण प्रतिष्ठा की हुई शुरुवात
आस्था राज्य

उड़ीसा की तर्ज पर बने श्री सिद्धिविनायक मंदिर में विराजेगे लंबोदर..भव्य कलश यात्रा में शामिल हुई सैकड़ो महिलाए…. पुलिस ने किया कलश यात्रियों का स्वागत, प्राण प्रतिष्ठा की हुई शुरुवात

अम्बिकापुर.शहर से लगे सांड बार मंदिर जिसे वनेश्वरी माता के मंदिर के रूप मे भी जाना जाता है यहां अब लम्बोदर महाराज भी विराजमान होने वाले है,,,दर्रीपारा के रहने वाले राकेश साहू ने अपने पूर्वजों की याद में यहां विशाल,भव्य और बेहद ही आर्कषक श्री सिद्धि विनायक मंदिर का निर्माण कराया है जिसकी प्राण प्रतिस्ठा 14 फरवरी को किया जाना है,,, इसके लिए 12 फरवरी को भव्य कलश यात्रा निकाली गई,इस कलश यात्रा में शहर की महिलाओं के अलावा काफी संख्या में ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं ने शिरकत किया. यह कलश यात्रा बंजारी शिव मंदिर से शुरू होकर सांडबार मंदिर तक पहुंची, जहां मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा के कार्यक्रम को गति दी गई. इस कलश यात्रा में खास बात यह रही की यात्रा को लेकर जहां शहर की महिलाओं और लोगों में उत्साह तो नजर आया ही साथ ही साथ पुलिस भी इस धार्मिक आयोजन में भागीदारी निभाती नजर आई. मणिपुर थाने के सामने थाना प्रभारी प्रदीप जायसवाल के नेतृत्व में पुलिस कर्मियों ने कलश यात्रियों का न सिर्फ स्वागत किया, बल्कि उन्हें पानी और चाय भी पिलाय. इसके साथ ही यातायात व्यवस्था को दुरुस्त करने और कलश यात्रा को सुगम और व्यवस्थित बनाने में पुलिस टीम की महत्वपूर्ण भूमिका नजर आई. ऐसा बहुत कम होता है जब पुलिस भी धार्मिक आयोजनों में भागीदारी निभाती नजर आए,मगर यहां पुलिस की एक अनूठी कार्य प्रणाली भी नजर आई, जिसको सब लोगों ने सराहा भी, हम आपको बता दें कि अंबिकापुर के सांड बार मंदिर में अब लोगों को भव्य श्री सिद्धि विनायक गजानन महाराज के दर्शन हो सकेंगे.

दरअसल दर्रीपारा के रहने वाले राकेश साहू के द्वारा मंदिर प्रांगण में विशाल श्री सिद्धिविनायक मंदिर का निर्माण कराया गया है जिसकी प्राण प्रतिष्ठा 14 फरवरी को की जाएगी इसके लिए बाकायदा ब्राह्मणों के द्वारा मंत्रोचार कराया जा रहा है साथ ही प्राण प्रतिष्ठा के दिन भव्य भंडारे का आयोजन भी रखा गया है कलश यात्रा में शामिल होने वाली महिलाओं ने भी न सिर्फ कलश यात्रा में अपनी भागीदारी निभाई बल्कि मंदिर के भव्यता को देखते हुए उन्होंने मंदिर की भूरि भूरि प्रशंसा भी की संभवत यह मंदिर जिले का पहला गणपति मंदिर होगा जहां इतने भव्य रूप में पार्वती नंदन विराजेगे यही कारण है कि यहां दूर-दूर से लोगों की भीड़ जमा हो रही है और हर कोई अपनी भागीदारी यहां निभा रहा है,,,।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *