26 May 2024
आगामी चुनाव को लेकर सरगुजा आईजी के नेतृत्व में आयोजित की गई अंतर्राज्यीय संयुक्त बॉर्डर समीक्षा बैठक…तीनों पड़ोसी राज्यों (उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश, झारखण्ड) एवं तीनों पड़ोसी जिले (सरगुजा, सूरजपुर, जशपुर) के पुलिस एवं जिला प्रशासन के अधिकारी हुए शामिल
क्राइम राज्य

आगामी चुनाव को लेकर सरगुजा आईजी के नेतृत्व में आयोजित की गई अंतर्राज्यीय संयुक्त बॉर्डर समीक्षा बैठक…तीनों पड़ोसी राज्यों (उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश, झारखण्ड) एवं तीनों पड़ोसी जिले (सरगुजा, सूरजपुर, जशपुर) के पुलिस एवं जिला प्रशासन के अधिकारी हुए शामिल

बलरामपुर ।आगामी विधानसभा चुनाव को देखते हुए आज पुलिस अधीक्षक कार्यालय बलरामपुर के सभाकक्ष में अंतर्राज्यीय संयुक्त बॉर्डर समीक्षा बैठक सम्पन्न हुई। बैठक में सरगुजा रेंज के बलरामपुर, सूरजपुर, सरगुजा और जशपुर के साथ-साथ जिले से लगने वाले तीनों पड़ोसी राज्यों के पुलिस एवं जिला प्रशासन के अधिकारी सम्मिलित हुए।

समीक्षा बैठक में पुलिस महानिरीक्षक सरगुजा रामगोपाल गर्ग, राजकुमार लकड़ा पुलिस महानिरीक्षक पलामू, डी. रविशंकर पुलिस उप महानिरीक्षक, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जशपुर, रिमिजियुस एक्का कलेक्टर बलरामपुर, डॉ. लाल उमेद सिंह पुलिस अधीक्षक बलरामपुर, श्रीमती रेना जमील मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत बलरामपुर, शेखर जमूआर कलेक्टर गढ़वा, अंजनी कुमार झा पुलिस अधीक्षक गढ़वा, भोर सिंह यादव कलेक्टर लातेहार, अंजनी अंजन पुलिस अधीक्षक लातेहार, आई. कल्याण एलेसेला पुलिस अधीक्षक सूरजपुर, कुन्दन कुमार कलेक्टर सरगुजा, सुनिल शर्मा पुलिस अधीक्षक सरगुजा, डॉ. रवि मित्तल कलेक्टर जशपुर सम्मिलित हुए।
समीक्षा बैठक का उद्देश्य जिले के सीमावर्ती क्षेत्रों के साथ सम्पूर्ण जिले में शांतिपूर्ण एवं सौहार्द्र वातावरण में चुनाव सम्पन्न कराना है। इस अवसर पर चुनाव के दौरान किसी भी तरीके के नकारात्मक गतिविधियों को रोकने के लिए एजेण्डावार विचार-विमर्श करते हुए सभी क्षेत्रों के संबंध में आवश्यक जानकारी/सूचनाओं का आदान-प्रदान एवं विस्तृत चर्चा की गई। बैठक में सीमावर्ती जिलों, अनुभागों एवं थाना क्षेत्र के संबंध में जानकारी साझा की गई। जिन क्षेत्रों में लोगों का आवागमन होता है उन सभी क्षेत्रों में नाका प्वाईंट लगवाने के संबंध में, गुण्डा-बदमाश, अपराधियों एवं स्थायी वारंटियों के धरपकड़ के संबंध में अन्य राज्यों से भी कार्यवाही हेतु अपेक्षित सहयोग प्रदान करने के संबंध में चर्चा की गई। सीमावर्ती क्षेत्रों में पुलिस, राजस्व सहित विभिन्न विभागों में आपसी समन्वय बेहतर करने के संबंध में चर्चा की गई। क्षेत्र के संवेदनशील हॉट-स्पॉट का चिन्हांकन करने, संयुक्त नक्सल विरोधी अभियानों के दौरान सूचना तंत्र को मजबूत करने, अवैध शराब एवं अन्य मादक पदार्थों की तस्करी रोकने के लिए संयुक्त मैकेनिज्म को कारगर बनाने एवं फिक्सड पिकेट के साथ मोबाइल चेकिंग के संबंध में आवश्यक जानकारियों को साझा किया गया। इसके अलावा सम्पूर्ण विधानसभा चुनाव के दौरान संचार व्यवस्था को बेहतर बनाये रखने के संबंध में विस्तृत चर्चा की गई।
पुलिस महानिरीक्षक सरगुजा रामगोपाल गर्ग ने बलरामपुर की सीमा से लगने वाले पडा़ेसी राज्य झारखण्ड के गढ़वा, लातेहार और गुमला क्षेत्रों के संबंध में कहा कि यहां नक्सल गतिविधियां होती रहती हैं जिसके लिए विशेष प्रयास करने की आवश्यकता है। बलरामपुर के भूताहीमोड़, बंदरचुआं, पुंदाग एवं सबाग कैम्प की स्थापना होने पर नक्सली गतिविधियों पर जिस प्रकार सफलतापूवर्क अंकुश लगाया गया उसके लिए उन्होंने पुलिस प्रशासन की सराहना की। इसके अलावा उन्होंने कहा कि बूढ़ापहाड़ जैसे पहुंचविहीन एवं अतिनक्सल प्रभावित क्षेत्रों में पुलिस एवं सी.आर.पी.एफ. की उपस्थिति से क्षेत्र के लोगों में पुलिस एवं प्रशासन के प्रति विश्वास बढ़ा है। निश्चित तौर पर यह जिले में शांतिपूर्ण चुनाव कराने में अपनी सकारात्मक एवं महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।
पुलिस अधीक्षक बलरामपुर डॉ. लाल उमेद सिंह ने पावर प्वाइंट प्रजेंटेशन के माध्यम से जिले की भौगोलिक स्थिति एवं नक्सल गतिविधियों व आगामी चुनावी रणनीति के संबंध में बिंदुवार जानकारी दी। साथ ही उन्होंने कहा कि नक्सल क्षेत्रों में आवागमन की व्यवस्था को सुचारू रूप से बनाए रखने के लिए निर्माणाधीन सड़क कार्य को जल्द से जल्द पूर्ण कर लिया जाएगा। इसके साथ ही उन्होंने बूढ़ापहाड़ के इलाके में नक्सल उन्मूलन की दिशा में और बेहतर कार्य करने एवं नक्सल इलाकों में पुलिस की गतिविधियां और बढ़ाने के संबंध में विस्तृत चर्चा की गई। पुलिस अधीक्षक बलरामपुर ने कहा कि हमारे जिले की सीमाएं पड़ोसी राज्यों उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश एवं झारखण्ड से लगी हुई हैं। इसलिए यहां शांति और सौहार्द्रपूर्ण वातावरण बनाए रखना चुनौतीपूर्ण होता है। बॉर्डर क्षेत्रों से कई बार अवैध नशीले पदार्थों के तस्करी एवं अन्य कई गंभीर अपराधिक गतिविधियां परिलक्षित होती रहती हैं, जिन्हें रोकने के लिए आपसी समन्वय बेहद आवश्यक है। इसलिए उन्होंने जिले में सफलतापूर्वक चुनाव सम्पन्न कराने के लिए पड़ोसी राज्यों के जिलों सहित सीमावर्ती जिलों के पुलिस एवं जिला प्रशासन के सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों की आपसी समन्वय और सहभागिता को बेहद आवश्यक बताया।
इस अवसर पर प्रमोद कुमार सिंह कमाण्डेंट 62 बी.एन. सी.आर.पी.एफ. अम्बिकापुर, नृपेन्द्र सिंह कमाण्डेंट 172 बी.एन. सी.आर.पी.एफ. गढ़वा, श्याम प्रताप ंिसंह अनुविभागीय दण्डाधिकारी दुद्धी उ.प्र., प्रदीप चंदेल सी.ओ. पिपरी उ.प्र., बी.पी. वर्मन अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी सिंगरौली म.प्र.,विरेन्द्र धार्वे सी.एस.पी. विन्धनगर सिंगरौली, बंधन लांग उप जिला निर्वाचन अधिकारी, रवि जैन अनुमण्डल पदाधिकारी गुमला, मनिष कुमार डी.एस.पी. अभियान गुमला, राजेश कुजूर पुलिस अनुविभागीय अधिकारी महुआडांड लातेहार सहित अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *