28 May 2024
अम्बिकापुर चिकित्सालय के लेबर रूम सेक्शन ने उच्चतम प्लेटिनम स्तर 92% और मातृ ओटी में गोल्ड एक्रेडिटेशन स्तर 88% अंक के साथ अव्वल स्थान प्राप्त किया…उपमुख्यमंत्री टीएस सिंह देव के निर्देशानुसार मातृत्व एवं शिशु अस्पताल की बेहतर व्यवस्था हेतु लगातार विशेष प्रयास किया जा रहा था
राज्य स्वास्थ

अम्बिकापुर चिकित्सालय के लेबर रूम सेक्शन ने उच्चतम प्लेटिनम स्तर 92% और मातृ ओटी में गोल्ड एक्रेडिटेशन स्तर 88% अंक के साथ अव्वल स्थान प्राप्त किया…उपमुख्यमंत्री टीएस सिंह देव के निर्देशानुसार मातृत्व एवं शिशु अस्पताल की बेहतर व्यवस्था हेतु लगातार विशेष प्रयास किया जा रहा था

अम्बिकापुर।उपमुख्यमंत्री टीएस सिंह देव के निर्देशानुसार राजमाता श्रीमती देवेंद्र कुमारी सिंहदेव शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय संबंध चिकित्सालय अंबिकापुर में मातृत्व एवं शिशु अस्पताल के बेहतर व्यवस्था हेतु लगातार विशेष प्रयास किया जा रहा था। उन्होंने बैठकों ने स्पष्ट निर्देश दिया था की हर संसाधन का इस्तेमाल करते हुए मरीजों को लाभ पहुंचाया जाए एवं मातृ एवं शिशु मृत्यु दर में कमी लाई जा सके।

उसी कड़ी में केंद्र सरकार के अधीनस्थ स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के दल द्वारा राष्ट्रीय स्तर के असेसर ने लक्ष्य कार्यक्रम के तहत लेबर रूम एवं लेबर ओटी‌ का मूल्यांकन दिनांक 26/6/23 को किया गया था।
जिसके लिए राष्ट्रीय स्तर के मूल्यांकन कर्ता रांची से नीरल कुजुर एवं नागालैंड से डॉ सी. न्यूमई आए हुए थे। मूल्यांकन के दौरान लेबर वार्ड ,‌ ऑपरेशन थिएटर पीएनसी का गहन मूल्यांकन एवं क्वालिटी सर्विसेज की पूरे प्रोसेस को बारीकी के साथ निरीक्षण किया गया था, जिसका परिणाम आज भारत सरकार स्वास्थ्य एव परिवार कल्याण मंत्रालय नई दिल्ली के द्वारा अम्बिकापुर चिकित्सालय के लेबर रूम सेक्शन में उच्चतम प्लेटिनम स्तर 92% और मातृ ओटी में गोल्ड एक्रेडिटेशन स्तर 88% अंक के साथ अव्वल स्थान प्राप्त किया। लक्ष्य कार्यक्रम प्राप्त करने वाला छत्तीसगढ़ का अंबिकापुर मेडिकल कालेज, रायपुर मेडिकल कॉलेज के बाद दूसरा है। इस कार्यक्रम की प्राप्ति के लिए माननीय उप मुख्यमंत्री के द्वारा लगातार बैठकों में निर्देश दिया गया था एवं मुख्यमंत्री से विशेष अनुदान राशि अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज के लिए स्वीकृत कराया था। उन्होंने लगातार अस्पताल का भ्रमण कर चिकित्सकों से स्टाफ से एवं मरीजों से जानकारी लेकर सुविधाओं में विस्तार के बारे में बहुत गहन अध्ययन किया और उसी प्लान अनुसार विगत 3 वर्षों में काम कराया जिसके परिणाम स्वरूप आज लक्ष्य कार्यक्रम में हमें सफलता प्राप्त हुई है। लक्ष्य कार्यक्रम केंद्र सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के द्वारा संचालित होता है इसके माना कितने उच्च स्तर के हैं की मरीजों की सुविधाओं में विस्तार के साथ-साथ क्वालिटी के पैमाने को भी जांचा जाता है।

लक्ष्य मूल्यांकन का उद्देश्य मातृ मृत्यु दर एव शिशु मृत्यु दर में कमी लाने व गुणवत्ता युक्त सुविधाएं उपलब्ध कराना है।इसकी साथ ही उच्च गुणवत्ता की उपलब्धि मिलने से अस्पताल के समस्त अधिकारियो एव कर्मचारियों में हर्ष है।

निश्चित रूप से लक्ष्य कार्यक्रम में सफलता अंबिकापुर संभाग के सबसे बड़े अस्पताल मेडिकल कॉलेज अंबिकापुर के लिए मील का पत्थर साबित होगा एवं यहां पर उपलब्ध संसाधनों एवं सुविधाओं में विस्तार का पूरा फायदा पूरा लाभ आम जनता को मिलेगा। ज्ञात हो छत्तीसगढ़ में रायपुर मेडिकल कॉलेज बाद अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज केएमसीएच अस्पताल में सर्वाधिक लोड है। पूरे संभाग के मरीज अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज में आते हैं और इसका लाभ लेते हैं।
उपमुख्यमंत्री ने मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ. रमनेश मूर्ति, संभागीय संयुक्त संचालक स्वास्थ सेवाएं डा पीएस सिसोदिया, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डा आरएन गुप्ता, अस्पताल अधीक्षक डॉ. आर. सी. आर्या, सिविल सर्जन सह अस्पताल अधीक्षक डॉ जेके रेलवानी, विभागाध्यक्ष, अस्पताल सलाहकार, नर्सिंग अधिकारी सहित समस्त अधिकारियो व कर्मचारियों को बधाई एव शुभकामनाएं दी।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *